खेसारी बदलेगी महिलाओं की किस्मत, बिहार कृषि विवि अभी करा रहा पटना, लखीसराय और गया में खेती, अब इन जिलों में भी होगा

भागलपुर[ललनतिवारी]।खेसारीकीखेतीसेअबमहिलाओंकीकिस्मतबदलेगी।इसकेलिएबिहारकृषिविश्वविद्यालयपिछलेदोवर्षोंसेप्रयासकररहाहै।किसानोंकेखेतोंमेंखेसारीकीनईकिस्मेंलगाकरउन्हेंंउत्साहितकियाजारहाहै।

दूसरीओरइसकेमूल्यसंवर्धनकेलिएकईनएउत्पादघरेलूस्तरपरबनानेपरपहलकीजारहीहै।ताकिखेसारीकाविकासहोऔरग्रामीणमहिलाओंकोस्वरोजगारभीमिले।

खेसारीकेबनाईजाएगीखास्तानमकीन

ग्रामीणक्षेत्रकीमहिलाओंकासमूहबनाकरविश्वविद्यालयनएउत्पादबनानेकाप्रशिक्षण,उत्पादकेलिएकच्चामाल,छोटेयंत्रऔरउत्पादितपदार्थोंकोबाजारउपलब्धकरानेकीकार्ययोजनाबनाईहै।इसकेतहतशुरुआतीदौरमेंखेसारीकीबरीऔरखास्तानमकीनबनाईजाएगी।

बायोटेककिसानहबयोजनाकीशुरुआतदोवर्षपहलेकेंद्रसरकारकेविज्ञानएवंप्रौद्योगिकीमंत्रालयकेजैवप्रौद्योगिकीविभागनेकी।बिहारमेंबीएयूकोयहजिम्मेदारीमिली।इसकेतहतविलुप्तहोचुकेबेहदगुणकारीदलहनफसलखेसारीकाविकासकरनाहै।किसानोंकेउत्साहवर्धनकेलिएप्रयोगकेतौरपरपटना,लखीसरायऔरगयामेंकिसानोंकीखेतोंपरइसेलगायागयाहै।इसकेलिएखेसारीकीनईकिस्मेंरतनऔरप्रतीककिसानोंकोउपलब्धकरायागयाहै।बेहतरउत्पादनहुआ।

भागलपुरसहितअन्यजिलोंमेंभीहोगीपरियोजनालागू

परियोजनाकोअन्यजिलोंमेंलागूकरनेकेलिएबीएयूसरकारसेपत्राचारकरेगा।ताकियहांकीग्रामीणमहिलाओंकोभीस्वरोजगारमिलेऔरखेसारीकाविकासहो।

घरेलूमहिलाएंऐसेबनासकतीहैंबरीऔरनमकीन

परियोजनाकेअन्वेषकसीकेपांडाकहतेहैंकिबरीबनानेकेलिएखेसारीकीभूसी,उड़दकीदाल,पोस्तादानानमक,मिक्सचरग्राइंडरकीजरूरतहोतीहै।

उड़ददालऔरखेसारीकीभूसीकोरातभरपानीमेंभिगोयाजाताहै।फिरमिक्सचरकेमाध्यमसेबनायाजाताहै।इसमेंमकईकाआटा70फीसद,चावलकाआटा10फीसद,खेसारीकाआटा20फीसद,नमकऔरमसालादेकरप्रसंस्करणयूनिटकेमाध्यमसेबनायाजाताहै।

दलहनफसलखेसारीकेविकासकेलिएपरियोजनाचलाईजारहीहै।आनेवालेसमयमेंभागलपुरसहितअन्यजिलोंमेंभीविस्तारितकियाजाएगा।-डॉआरकेसोहाने,कुलपतिबीएयू